Skip to main content

उनचास मरुत का क्या अर्थ है ? | वायु कितने प्रकार की होती है?

Unchaas Marut | उनचास मरुत तुलसीदास ने सुन्दर कांड में, जब हनुमान जी ने लंका मे आग लगाई थी, उस प्रसंग पर लिखा है -* *हरि प्रेरित तेहि अवसर चले मरुत उनचास।* *अट्टहास करि गर्जा कपि बढ़ि लाग अकास।।25।।* अर्थात : जब हनुमान जी ने लंका को अग्नि के हवाले कर दिया तो -- *भगवान की प्रेरणा से उनपचासों पवन चलने लगे।* *हनुमान जी अट्टहास करके गर्जे और आकार बढ़ाकर आकाश से जा लगे। 49 प्रकार की वायु के बारे में जानकारी और अध्ययन करने पर सनातन धर्म पर अत्यंत गर्व हुआ। तुलसीदासजी के वायु ज्ञान पर सुखद आश्चर्य हुआ, जिससे शायद आधुनिक मौसम विज्ञान भी अनभिज्ञ है । आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि *वेदों में वायु की 7 शाखाओं के बारे में विस्तार से वर्णन मिलता है*। अधिकतर लोग यही समझते हैं कि वायु तो एक ही प्रकार की होती है, लेकिन उसका रूप बदलता रहता है, जैसे कि ठंडी वायु, गर्म वायु और समान वायु, लेकिन ऐसा नहीं है।  दरअसल, जल के भीतर जो वायु है उसका वेद-पुराणों में अलग नाम दिया गया है और आकाश में स्थित जो वायु है उसका नाम अलग है। अंतरिक्ष में जो वायु है उसका नाम अलग और पाताल में स्थित वायु का नाम अलग है। नाम अल

Privacy Policy

                      Privacy Policy---------
  • Please read our privacy policy carefully------------
  • Do we use ‘cookies’?
  • We do not use cookies for tracking purposes.You can choose to have your computer warn you each time a cookie is being sent, or you can choose to turn off all cookies. You do this through your browser (like Internet Explorer) settings. Each browser is a little different, so look at your browser’s Help menu to learn the correct way to modify your cookies.
  • If you disable cookies off, some features will be disabled that make your site experience more efficient and some of our services will not function properly.
  • Google
  • We along with third-party vendors, such as Google use first-party cookies (such as the Google Analytics cookies) to measure site traffic.
  • Opting out:
  • Users can set preferences for how Google advertises to you using the Google Ad Settings page. Alternatively, you can opt out by visiting the Network Advertising initiative opt out page or permanently using the Google Analytics Opt Out Browser add on.
  • How does our site handle do not track signals?
  • We honor do not track signals and do not track, plant cookies, or use advertising when a Do Not Track (DNT) browser mechanism is in place.
  • Does our site allow third-party behavioral tracking?
  • It’s also important to note that we do not allow third-party behavioural trackin
  • Privacy Policy Updates---
  • We reserve the right to modify this privacy policy at any time. If we make changes to this policy we may or may not notify you, therefore you should review this privacy policy frequently.
  • Contacting Us
  • If there are any questions regarding this privacy policy, you may contact us by emailing: attractivesinger.brh@gmail.com

Comments

Popular posts from this blog

परमानन्द जी महाराज का जीवन परिचय

परमानन्द जी महाराज का जीवन परिचय  स्वामी परमानंद जी महाराज सनातन धर्म और वेदांत वचनों और शास्त्रों के विश्वविख्यात ज्ञाता के रूप में आज संसार के प्रसिद्ध संतों में गिने जाते हैं। स्वामी परमानंद गिरि जी महाराज ने वेदांत वचन को एक सरल और साधारण भाषा के अंदर परिवर्तित कर जनमानस तक पहुंचाने का संकल्प लिया आज उस संकल्प को पूर्ण होता हम सभी अपनी आंखों से देख सकते हैं।  महाराज श्री के जीवन के विषय में कहें तो महाराज श्री बाल्यकाल से ही आध्यात्मिक जगत की ओर अग्रसर रहें। परमानन्द जी महाराज का जन्म 30 के दशक के उत्तरार्ध में 26 October 1935 को फतेहपुर ,उत्तर प्रदेश में हुआ। बचपन से ही उनमें कई असाधारण विशेषताएं दिखाई पड़ने लगी तत्पश्चात चित्रकूट के महान संत श्री स्वामी अखंडानंद जी महाराज ने जो की मध्य प्रदेश के निवासी थे उन्होंने उस बालक के दिव्य गुणों को पहचान कर उसे अपने शिष्य के रूप में स्वीकार किया।  अपने गुरु के मार्गदर्शन व प्राचीन शास्त्रों में पारंगत होने के साथ-साथ आप एक हर्बलिस्ट और योग ध्यान के स्वामी बन गए। अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने सन्यास का संकल्प लिया और एक कर्म

कामघेनु : Gau Mata Ek Devi Ya Pashu | गाय के 108 नाम और उनकी महिमा

कामघेनु का स्वरुप  सनातन धर्म में पुरातन काल से ही गौ माता को विशेष स्थानीय विशेष दर्जा प्राप्त है।  गौ माता की उत्पत्ति समुद्र मंथन से मानी जाती है पर बहुत कम लोग यह जानते हैं कि समुद्र मंथन से पूर्व भी गौ माता का अस्तित्व था या यूं कहें कि सृष्टि के प्रारंभ से ही गौ माता का अस्तित्व पुराणों में व्याप्त है।  संसार की उत्पत्ति भगवान शिव से होती है तो उसी समय गौ माता की उत्पत्ति भी होती है और तभी से गौ माता को एक झूठ बोलने के कारण भगवान शिव से श्राप मिला कि आने वाले कलयुग में उन्हें अपने मुख से संसार में जूठन खानी पड़ेगी परंतु शिव बहुत दयालु है।  अतः इस श्राप के साथ ही साथ उन्हें यह वरदान भी मिला कि उनमें 33 कोटि देवताओं का वास होगा। समस्त संसार में एक देवी के रूप में उनकी पूजा की जाएगी और समस्त संसार उनके सामने सदैव नतमस्तक रहेगा। कामधेनु सुरभि गौमाता संसार की समस्त गउवों की माता और जननी है। इनका निवास स्थान स्वर्ग में होने के कारण अत्यधिक पूजनीय मानी जाती हैं। मनुष्य के जन्म से लेकर मृत्यु तक उसके प्रत्येक संस्कार में कहीं ना कहीं गाय का योगदान रहता है।  हम सभी को गाय को एक पशु न समझ

Ram Mandir - Swami Parmanand Giri Ji Maharaj

Ram Mandir Ayodhya | राम मंदिर अयोध्या  आज के इस लेख में राम मंदिर आंदोलन से जुड़े कुछ बहुमूल्य तथ्य आप सभी के सामने प्रस्तुत करेंगे जिनसे आपको ज्ञात होगा की परमपूज्य युगपुरुष स्वामी परमांनद जी महाराज (Swami Parmanand Ji Maharaj) का इस ऐतिहासिक आंदोलन में कितना बड़ा योगदान रहा।  सत्य तो ये है की हर भारत वासी और उन लाखो कार सेवको के बलिदान का परिणाम है ये राम मंदिर। (Ram Mandir) .  राम मंदिर की धारणा  राम मंदिर की कामना हम सभी भारत वासियो के ह्रदय में हमेशा से थी फिर चाहे हम किसी भी धर्म और सम्प्रदाय के क्यों न हो। पुरे विश्व में केवल भारत  देश है जहां भगवान् के एक मंदिर को बनने को लेकर इतना लम्बा और इतना बड़ा आंदोलन करना पड़ा और देश के संविधान पर विश्वास रखते हुवे एक लम्बे समय से न्याय का इंतज़ार सभी राम भक्तो ने किया। सनातन धर्म ,सभी धर्मो और उनके प्रत्येक ग्रन्थ का सम्मान करता है। सनातन धर्म हमें किसी से इर्षा करना नहीं सिखाता। केवल और केवल प्रेम का आदान और प्रदान ही सभी सनातनियो की विचार डरा सदैव से रही है। प्रभु श्री राम की जन्मभूमि पर श्री राम के मंदिर की धारणा हम सभी के ह्रदय में उसी